DRDO Full Form in Hindi

क्या आपको पता है कि DRDO का Full Form क्या होता हैं, अधिकांस लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है की आखिर डीआरडीओ मतलब क्या होता है। इस आर्टिकल में हम आपको डीआरडीओ से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी देंगे जैसे इसका मतलब क्या होता है, इसकी स्थापना कब हुई थी, और इसके वर्तमान अध्यक्ष कौन हैं। आइये DRDO Full Form in Hindi को विस्तार से जानते है।

DRDO Full Form in Hindi

DRDO का Full form “Defence Research and Development Organisation” होता है। अगर हम हिंदी में डीआरडीओ के फुल फॉर्म की बात करे तो DRDO Full Form in Hindi “रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन” होता है। डीआरडीओ एक संस्था है जो भारत की रक्षा के लिए रक्षा मंत्रालय के अधीन काम करती है। डीआरडीओ की स्थापना सन् 1958 मे रक्षा विज्ञान संस्थान के तकनीकी विभाग के रूप में की गयी थी। डीआरडीओ को Indian Ordnance Factory के साथ Technical Development and Production और भारतीय विज्ञान संस्थान ( Defence Science Organisation) को मिलाकर बनाया गया था।

(यह भी पढ़ें – PNR का फुल फॉर्म – PNR Full Form in Hindi )

DRDO – Defence Research and Development Organisation

  • मुख्यालय (हेडक्वार्टर) – नई दिल्ली
  • अध्यक्ष (चेयरमैन) – जी. सतीश रेड्डी ( Satheesh Reddy)
  • स्थापना – 1958
  • मोटो (Motto) – “बलस्य मूलं विज्ञानम्;”
  • ऑफिसियल वेबसाइट – https://www.drdo.gov.in/hi

डीआरडीओ अभी सेना को मजबूती प्रदान करने के लिए हथियारों, मिसाइलों, हल्के लड़ाकू विमानों, रडार आदि युद्ध प्रणालियों को लगातार विकसित कर रहा है। वर्तमान में इसकी 52 प्रयोगशालाएँ हैं जो रक्षा उपकरण के क्षेत्र में कार्यरत हैं। Defence Research and Development Organisation के अंतर्गत 5000 से अधिक वैज्ञानिक और 30,000 अन्य तकनीकी स्टाफ कार्य कर रहा है।

(यह भी पढ़ें – ITI का फुल फॉर्म – ITI Full Form in Hindi )

डीआरडीओ का मोटो – Motto of DRDO in Hindi

DRDO का आदर्श-वाक्य (Motto) “बलस्य मूलम् विज्ञानम्” है। यह लाइन संस्कृत में लिखी गई जिसका अर्थ “शक्ति का स्रोत विज्ञान है।” इसे अंग्रेजी में “Strength’s Origin is in Science” कहते हैं। यदि इस नीति-वाक्य के मतलब को विस्तार से समझे तो इसका अर्थ यह कि किसी भी देश की शक्ति का पता उसके विज्ञान से लगाया जा सकता हैं। डीआरडीओ देश की देश में विज्ञान को विकसित करके प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर करने और नई ऊंचाइयों पर पहुंचा कर उसे अधिक शक्तिशाली राष्ट्र बनाने मदद करता हैं।

यह भी पढ़ें – 

यदि आप सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहें और आपको हमारे द्वारा दी गई पसंद आयी है तो आप इस प्रकार की और अधिक जानकारी के लिए हमारे Facebook के पेज को Like और हमें Twitter पर फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Comment